#storiesofindia Instagram Photos & Videos

storiesofindia - 2.7m posts

Latest #storiesofindia Posts

Advertisements

Advertisements

Advertisements

Advertisements

  • As the day nears end fishermen wrap up their work. Pull up the fishing nets, collect their wages and head back home. .
.
Camera- Canon EOS 700D | Aperture- F5.0 | Focal length- 123.00 mm | Flash- No flash | White balance- Auto | ISO- 200 | Exposure time- 1/50 s
  • As the day nears end fishermen wrap up their work. Pull up the fishing nets, collect their wages and head back home. .
    .
    Camera- Canon EOS 700D | Aperture- F5.0 | Focal length- 123.00 mm | Flash- No flash | White balance- Auto | ISO- 200 | Exposure time- 1/50 s
  •  6  1  22 minutes ago
  • दोपहर के भरपेट भोजन के बाद सबसे आनंददायक नींद आती है और क्योंकि मैं भी इंसान ही हूँ तो इस बात से कहाँ ही अछूती रह पाती भला। सो अपने बैग को तकिया बना कर सोती बनी। पर उन सामान बेचने वालों की कर्कश आवाज़ कमबख्त सोने के हर प्रयास को बार बार असफ़ल कर देती थी तो रात में बत्ती होने के बाद सन्नाटे में चैन की नींद सोऊँगी। इतना सब मैं सोच ही रही थी कि तभी मेरी बायीं कोहनी से कुछ टकराया तो हड़बड़ाकर मैं उठ बैठी। "सॉरी दीदी, माफ कीजियेगा गलती से लग गया", एक नौजवान चाभी को गुच्छों को संभालते हुए बोला। गोरा चिट्टा, सुडौल शरीर, कद काठी भी ठीक थी पर उसको ट्रैन में चाभी के गुच्छे बेचता देख कुछ अटपटा से लगा। ख़ैर अब इसे बालमजदूरी कहें या फिर परिवार के भरण पोषण के लिए खुद के मन से किया गया कार्य, मेरे ये सब सोचने भर से उस लड़के की ज़िंदगी में क्या ही बदल जाता। वो जल्दी ही अपना सामान सम्भालकर वहां से निकल तो गया पर जाते जाते बहुत से सवाल मेरे ज़ेहन में छोड़ गया। इतना सब सोचते सोचते मैंने अपने बैग से एक कॉपी और एक पेन निकाल लिया जो मेरा हमसफ़र होता है हर सफ़र का। कुछ लिखने के लिए मैंने जैसे ही पेन बढ़ाया सामने से एक अंकल ने बीच मे टोकते हुए कहा,"क्यों! तुम अभी पढ़ाई कर रही हो ट्रेन में? एग्जाम देने जा रही क्या?" अब इस बात का एक सीधा जवाब हो सकता था 'जी नहीं' पर मेरी वार्तालाप जारी रखने में बिल्कुल दिलचस्पी नहीं थी तो बस मनाही में सिर हिलाकर छोड़ दिया। फ़िर उन्होंने दोबारा प्रश्न किया,"तुम पढ़ाई में क्या कर रही हो अभी!?" मैंने कह दिया, "जी पंजाब यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग कर रही हूँ और ये मेरा दूसरा वर्ष है"। ताकि अब दोबारा वो ना पूछे कि कहाँ से या वगैरह वगैरह। लेकिन फिर भी वो दोबारा पूछ बैठे, "अभी क्या लिख रही हो तुम?"
.
...Part 3
...To be continued
.
#shrutigupta #kavitagiri #kgstories #story #storytime #part3 #storiesofindia #storiesofinstagram #writersblock #writerslife #writer #writersofig #writersofinstagram #writeraofindia #writerscommunity #writers #bloggers #blogs #bloggersofinstagram #blogger #hindilover #hindi #hindistory
  • दोपहर के भरपेट भोजन के बाद सबसे आनंददायक नींद आती है और क्योंकि मैं भी इंसान ही हूँ तो इस बात से कहाँ ही अछूती रह पाती भला। सो अपने बैग को तकिया बना कर सोती बनी। पर उन सामान बेचने वालों की कर्कश आवाज़ कमबख्त सोने के हर प्रयास को बार बार असफ़ल कर देती थी तो रात में बत्ती होने के बाद सन्नाटे में चैन की नींद सोऊँगी। इतना सब मैं सोच ही रही थी कि तभी मेरी बायीं कोहनी से कुछ टकराया तो हड़बड़ाकर मैं उठ बैठी। "सॉरी दीदी, माफ कीजियेगा गलती से लग गया", एक नौजवान चाभी को गुच्छों को संभालते हुए बोला। गोरा चिट्टा, सुडौल शरीर, कद काठी भी ठीक थी पर उसको ट्रैन में चाभी के गुच्छे बेचता देख कुछ अटपटा से लगा। ख़ैर अब इसे बालमजदूरी कहें या फिर परिवार के भरण पोषण के लिए खुद के मन से किया गया कार्य, मेरे ये सब सोचने भर से उस लड़के की ज़िंदगी में क्या ही बदल जाता। वो जल्दी ही अपना सामान सम्भालकर वहां से निकल तो गया पर जाते जाते बहुत से सवाल मेरे ज़ेहन में छोड़ गया। इतना सब सोचते सोचते मैंने अपने बैग से एक कॉपी और एक पेन निकाल लिया जो मेरा हमसफ़र होता है हर सफ़र का। कुछ लिखने के लिए मैंने जैसे ही पेन बढ़ाया सामने से एक अंकल ने बीच मे टोकते हुए कहा,"क्यों! तुम अभी पढ़ाई कर रही हो ट्रेन में? एग्जाम देने जा रही क्या?" अब इस बात का एक सीधा जवाब हो सकता था 'जी नहीं' पर मेरी वार्तालाप जारी रखने में बिल्कुल दिलचस्पी नहीं थी तो बस मनाही में सिर हिलाकर छोड़ दिया। फ़िर उन्होंने दोबारा प्रश्न किया,"तुम पढ़ाई में क्या कर रही हो अभी!?" मैंने कह दिया, "जी पंजाब यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग कर रही हूँ और ये मेरा दूसरा वर्ष है"। ताकि अब दोबारा वो ना पूछे कि कहाँ से या वगैरह वगैरह। लेकिन फिर भी वो दोबारा पूछ बैठे, "अभी क्या लिख रही हो तुम?"
    .
    ...Part 3
    ...To be continued
    .
    #shrutigupta #kavitagiri #kgstories #story #storytime #part3 #storiesofindia #storiesofinstagram #writersblock #writerslife #writer #writersofig #writersofinstagram #writeraofindia #writerscommunity #writers #bloggers #blogs #bloggersofinstagram #blogger #hindilover #hindi #hindistory
  •  17  2  57 minutes ago
  • -// This morning. 
I sat here. 
The winds aren't the same. 
Birds make creepy noises. 
I am violent. 
I attached myself
With the agony
This ambience gives me complex. 
I am standing here. 
Eagerly searching for you 
Here and there 
In every passing guy. 
The canopy we made is dry 
It waited for us for a long time 
To shower the love 
To heal the differences 
To overcome and mend 
You didn't come. 
Although your words made sure you'd 
But you didn't. 
Maybe you stopped you 
To See Me 
Because he knows the kind of love I give to you would make you stay 
And in no dimensions he loves you the same. 
Or maybe you didn't because 
You were busy playing tennis on Sunday morning with your friends 
Along the streets 
With much joy and pride. 
Didn't the grass remind you of me 
When you feel 
Didn't it ask you about me. 
Or you'd be sleeping 
Dreaming about your dreams 
In which nowhere I fit 
Thinking of those fancy places 
You wanna visit. 
I am still here. 
Standing since 5
Smoked enough to believe 
That you'd somehow make it 
Something will strike your empty brain 
And you'd run to me 
You were supposed to come, 
But you didn't -//
✒:@mainsachitsingh #storytelling #stories #storiesofindia #writingcommunity #writersofinstagram #poemsporn #poems #poetsofinstagram #poets #writer #photography #musings #arts #wordsofwisdom #words #writing #quoteoftheday #quotes #quotetoliveby #igers #indianwriters #newdelhi #igwrites
  • -// This morning.
    I sat here.
    The winds aren't the same.
    Birds make creepy noises.
    I am violent.
    I attached myself
    With the agony
    This ambience gives me complex.
    I am standing here.
    Eagerly searching for you
    Here and there
    In every passing guy.
    The canopy we made is dry
    It waited for us for a long time
    To shower the love
    To heal the differences
    To overcome and mend
    You didn't come.
    Although your words made sure you'd
    But you didn't.
    Maybe you stopped you
    To See Me
    Because he knows the kind of love I give to you would make you stay
    And in no dimensions he loves you the same.
    Or maybe you didn't because
    You were busy playing tennis on Sunday morning with your friends
    Along the streets
    With much joy and pride.
    Didn't the grass remind you of me
    When you feel
    Didn't it ask you about me.
    Or you'd be sleeping
    Dreaming about your dreams
    In which nowhere I fit
    Thinking of those fancy places
    You wanna visit.
    I am still here.
    Standing since 5
    Smoked enough to believe
    That you'd somehow make it
    Something will strike your empty brain
    And you'd run to me
    You were supposed to come,
    But you didn't -//
    ✒:@mainsachitsingh #storytelling #stories #storiesofindia #writingcommunity #writersofinstagram #poemsporn #poems #poetsofinstagram #poets #writer #photography #musings #arts #wordsofwisdom #words #writing #quoteoftheday #quotes #quotetoliveby #igers #indianwriters #newdelhi #igwrites
  •  17  1  1 hour ago
  • बदलते, बढ़ते सिकन के नाम,
ये आज के नाम।
ख़ामोश बैठे उस इंसा के नाम
जो अब भी तलाश ही रहा है खुद को सिकुड़ते तालाबों में।
सवालों के बवंडर में घुस कर
धूल फांक रहे उस मुसाफ़िर के नाम, आज के घने अंधेरे के नाम।
कितने ही सपनो के नाम
जो अब आते नहीं।
कितनी यादों के नाम
जो अब भूले जा रहे हैं।
ख़त्म होती अपनी मियादों के नाम।
आज का मेरा सारा आकाश,
सारा समंदर,
मेरे आज के नाम।
ख़त्म होती,
थक कर गिरती,
मेरी कोशिशों के नाम।
बारिश में आँखों की
छिपते मोतियों के नाम।
कितनी ही अनगिनत अंगड़ाइयो के नाम।
छूटते, बटते, गुम होते
उन सारे प्यार के नाम
जिनको थकी बाँहे समेट न पाए।
भीतर के टूटे उन तमाम छोटे टुकड़ों के नाम
जिनकी मरहम अब मुमकिन नही।
कितने शाखों से उड़के कहीं गुम हुए
उन परिंदों के भी नाम जिनको ढूँढे न जाने कितनी सदियाँ हो चुकी।
____________________________
#india #kashmir #fineart #minimalism #canon #art #india #_soi #StoriesOfIndia #indianphotography #streetphotographersmagazine #art #bobbyjoshi #streetphotographyindia #indianphotography #snow #mood #instagood #creativeimagemagazine #wanderersofindia #teampixel #gallery_legit #somewheremagazine #aksimagazine #indiependentmagazine #bnw_planet_2019 #beautifuldestinations #moodygrams #artofvisuals #indianphotography
  • बदलते, बढ़ते सिकन के नाम,
    ये आज के नाम।
    ख़ामोश बैठे उस इंसा के नाम
    जो अब भी तलाश ही रहा है खुद को सिकुड़ते तालाबों में।
    सवालों के बवंडर में घुस कर
    धूल फांक रहे उस मुसाफ़िर के नाम, आज के घने अंधेरे के नाम।
    कितने ही सपनो के नाम
    जो अब आते नहीं।
    कितनी यादों के नाम
    जो अब भूले जा रहे हैं।
    ख़त्म होती अपनी मियादों के नाम।
    आज का मेरा सारा आकाश,
    सारा समंदर,
    मेरे आज के नाम।
    ख़त्म होती,
    थक कर गिरती,
    मेरी कोशिशों के नाम।
    बारिश में आँखों की
    छिपते मोतियों के नाम।
    कितनी ही अनगिनत अंगड़ाइयो के नाम।
    छूटते, बटते, गुम होते
    उन सारे प्यार के नाम
    जिनको थकी बाँहे समेट न पाए।
    भीतर के टूटे उन तमाम छोटे टुकड़ों के नाम
    जिनकी मरहम अब मुमकिन नही।
    कितने शाखों से उड़के कहीं गुम हुए
    उन परिंदों के भी नाम जिनको ढूँढे न जाने कितनी सदियाँ हो चुकी।
    ____________________________
    #india #kashmir #fineart #minimalism #canon #art #india #_soi #StoriesOfIndia #indianphotography #streetphotographersmagazine #art #bobbyjoshi #streetphotographyindia #indianphotography #snow #mood #instagood #creativeimagemagazine #wanderersofindia #teampixel #gallery_legit #somewheremagazine #aksimagazine #indiependentmagazine #bnw_planet_2019 #beautifuldestinations #moodygrams #artofvisuals #indianphotography
  •  36  0  1 hour ago

Top #storiesofindia Posts

Advertisements

Advertisements

  • Agya Pema.
I spotted him from a distance sitting all alone inside his cozy wooden cabin amidst strings of fluttering prayer flags and a blanket of green.

We parked outside and pranced down, cautiously approaching, hoping he would be okay with our company.
And that's when he smiled his wide toothless grin, eyes lit up in delight.
Beedi in hand, wisdom writ large over his 89 year old face, he instantly reminded me of my champ 92 year old grandfather. Frail and tiny with a twinkle in his eyes :)
He lived all alone in that dreamy li'l cabin. His wife had passed over 15 years ago, but his only son and grandson lived close enough to come check in on him everyday.

I've always feared continued solitude of that kind. But here, holding Agya Pema's hand and hearing his toothless cackle, some of that fear of prolonged solitude diminished. He didn't look forlorn or sad. He had a light in his eyes, shining bright at the sight of us and the Polaroid portrait we all took together.

I wish I could've packed him up and taken him ahead with us in Luna. But then again, as I looked back for a parting glance, I saw how content he was in his beautiful abode, beedi back in hand.
Alone but not lonely. He had seen solitude up close and embraced it as a friend.
.
Is there a fear you guys have fought lately?
And you, @jockeywoman ? Have you befriended any demons? 😁
📸 @cpproductions17 @bhaskar_maina07
  • Agya Pema.
    I spotted him from a distance sitting all alone inside his cozy wooden cabin amidst strings of fluttering prayer flags and a blanket of green.

    We parked outside and pranced down, cautiously approaching, hoping he would be okay with our company.
    And that's when he smiled his wide toothless grin, eyes lit up in delight.
    Beedi in hand, wisdom writ large over his 89 year old face, he instantly reminded me of my champ 92 year old grandfather. Frail and tiny with a twinkle in his eyes :)
    He lived all alone in that dreamy li'l cabin. His wife had passed over 15 years ago, but his only son and grandson lived close enough to come check in on him everyday.

    I've always feared continued solitude of that kind. But here, holding Agya Pema's hand and hearing his toothless cackle, some of that fear of prolonged solitude diminished. He didn't look forlorn or sad. He had a light in his eyes, shining bright at the sight of us and the Polaroid portrait we all took together.

    I wish I could've packed him up and taken him ahead with us in Luna. But then again, as I looked back for a parting glance, I saw how content he was in his beautiful abode, beedi back in hand.
    Alone but not lonely. He had seen solitude up close and embraced it as a friend.
    .
    Is there a fear you guys have fought lately?
    And you, @jockeywoman ? Have you befriended any demons? 😁
    📸 @cpproductions17 @bhaskar_maina07
  •  5,907  198  16 May, 2019

Advertisements