#india Instagram Photos & Videos

india - 46.3m posts

Latest #india Posts

  • हे संसार ! तू एक क्षण भी बिना बदले नहीं रहता और हे नासमझ मनुष्य ! तू उसको स्थिर रखने में अपनी कई जिंदगियाँ तबाह कर चुका है। ʹमेरी जवानी बनी रहे, मेरा यश बना रहे, मेरी पदोन्नति बनी रहे, मेरा पद बना रहे….ʹ श्वास-श्वास में तू बिगड़ता जा रहा है, फिर तेरा क्या बना रहेगा भाई !

ऐ गाफिल ! न समझा था, मिला था तन रतन तुझको। मिलाया खाक में तूने, हे सजन ! क्या कहूँ तुझको ?

अपनी वजूदी हस्ती में तू इतना भूल मस्ताना। करना था किया वो न,

अपने आत्मा-परमात्मा को पाना था, वह नहीं किया। लगी उलटी लगन तुझको। जिसको छोड़ जाना है उसी के पीछे लगा रहा। उसी की परीक्षा पास की। उसी के पीछे ʹसर-सरʹ करके सर-खोपड़ी एक कर दी। और जिनको ʹसर-सरʹ कहता है, उनका न सिर रहा न पैर रहा। कौन सी निशा में तू सो रहा है ? संत तुलसीदास जी ने ऐसे लोगों को झकझोरा हैः मोह निसाँ सबु सोवनिहारा। देखिअ सपन अनेक प्रसारा।। (श्रीरामचरित. अयो.कां. 92.1)

ʹमैं विद्यार्थी हूँ। वह आयेगा मैं स्नातक हो जाँऊगा। वह दिन आयेगा जब बड़ी नौकरी पाऊँगा, आई ए एस बनूँगा, नहीं तो आई पी एस बनूँगा। मकान होगा, शादी होगी, गाड़ी होगी, सुखद दिन होंगे।ʹ अरे ! जब वे दिन आयेंगे तो जायेंगे भी। अभी नहीं हैं तो बाद में भी नहीं रहेंगे। विश्वनियंता परमात्मा सत्स्वरूप, आनंदस्वरूप, शुद्ध-बुद्ध ब्रह्म तुम्हारा आत्मा होकर बैठा है औऱ तुम बीते हुए का शोक करके परेशान हो रहे हो, भविष्य का भय करके भयभीत हो रहे हो और वर्तमान में ʹयह चला न जायʹ ऐसा सोच के भयभीत होकर उसके पिट्ठू बन रहे हो। अरे, जो अवस्था आयेगी वह तो जायेगी। डरने की क्या जरूरत है ? फिर नया आयेगा। यह शरीर जायेगा तो नया मिलेगा, नहीं मिला तो मुक्ति हो जायेगी। ये बातें तुम नहीं जानते हो इसलिए खामखाह परेशान, खामखाह भयभीत, खामखाह शोकातुर, चिंतित और खामखाह बीमार हो रहे हो। तेरा भाणा मीठा लागे। इतना ही तो समझना है। अपमान हुआ, वाह-वाह ! मान हुआ, वाह-वाह ! जो कुछ आया, वाह-वाह ! बीत रहा है, बह रहा है, वाह-वाह ! ʹऐसा हुआ, ऐसा होना चाहिए….ʹ तू फिकर न कर, फरियाद न कर, ʹवाह-वाह !ʹ कर बस।

तेरे फूलों से भी प्यार, तेरे काँटों से भी प्यार।

चाहे सुख दे या दुःख, हमें दोनों हैं स्वीकार।। क्योंकि देने वाला तू ही है। माँ के गर्भ में दूध की व्यवस्था तूने की थी। माँ की जेर के साथ हमारी नाभि जोड़ना तेरी कला-कुशलता है वाह ! वाह ! मेरे रब ! मेरे प्रभु ! मेरे प्यारे !…. बस यह सीख जाओ, मौज हो जायेगी। #philosophy #indianculture #india
  • हे संसार ! तू एक क्षण भी बिना बदले नहीं रहता और हे नासमझ मनुष्य ! तू उसको स्थिर रखने में अपनी कई जिंदगियाँ तबाह कर चुका है। ʹमेरी जवानी बनी रहे, मेरा यश बना रहे, मेरी पदोन्नति बनी रहे, मेरा पद बना रहे….ʹ श्वास-श्वास में तू बिगड़ता जा रहा है, फिर तेरा क्या बना रहेगा भाई !

    ऐ गाफिल ! न समझा था, मिला था तन रतन तुझको। मिलाया खाक में तूने, हे सजन ! क्या कहूँ तुझको ?

    अपनी वजूदी हस्ती में तू इतना भूल मस्ताना। करना था किया वो न,

    अपने आत्मा-परमात्मा को पाना था, वह नहीं किया। लगी उलटी लगन तुझको। जिसको छोड़ जाना है उसी के पीछे लगा रहा। उसी की परीक्षा पास की। उसी के पीछे ʹसर-सरʹ करके सर-खोपड़ी एक कर दी। और जिनको ʹसर-सरʹ कहता है, उनका न सिर रहा न पैर रहा। कौन सी निशा में तू सो रहा है ? संत तुलसीदास जी ने ऐसे लोगों को झकझोरा हैः मोह निसाँ सबु सोवनिहारा। देखिअ सपन अनेक प्रसारा।। (श्रीरामचरित. अयो.कां. 92.1)

    ʹमैं विद्यार्थी हूँ। वह आयेगा मैं स्नातक हो जाँऊगा। वह दिन आयेगा जब बड़ी नौकरी पाऊँगा, आई ए एस बनूँगा, नहीं तो आई पी एस बनूँगा। मकान होगा, शादी होगी, गाड़ी होगी, सुखद दिन होंगे।ʹ अरे ! जब वे दिन आयेंगे तो जायेंगे भी। अभी नहीं हैं तो बाद में भी नहीं रहेंगे। विश्वनियंता परमात्मा सत्स्वरूप, आनंदस्वरूप, शुद्ध-बुद्ध ब्रह्म तुम्हारा आत्मा होकर बैठा है औऱ तुम बीते हुए का शोक करके परेशान हो रहे हो, भविष्य का भय करके भयभीत हो रहे हो और वर्तमान में ʹयह चला न जायʹ ऐसा सोच के भयभीत होकर उसके पिट्ठू बन रहे हो। अरे, जो अवस्था आयेगी वह तो जायेगी। डरने की क्या जरूरत है ? फिर नया आयेगा। यह शरीर जायेगा तो नया मिलेगा, नहीं मिला तो मुक्ति हो जायेगी। ये बातें तुम नहीं जानते हो इसलिए खामखाह परेशान, खामखाह भयभीत, खामखाह शोकातुर, चिंतित और खामखाह बीमार हो रहे हो। तेरा भाणा मीठा लागे। इतना ही तो समझना है। अपमान हुआ, वाह-वाह ! मान हुआ, वाह-वाह ! जो कुछ आया, वाह-वाह ! बीत रहा है, बह रहा है, वाह-वाह ! ʹऐसा हुआ, ऐसा होना चाहिए….ʹ तू फिकर न कर, फरियाद न कर, ʹवाह-वाह !ʹ कर बस।

    तेरे फूलों से भी प्यार, तेरे काँटों से भी प्यार।

    चाहे सुख दे या दुःख, हमें दोनों हैं स्वीकार।। क्योंकि देने वाला तू ही है। माँ के गर्भ में दूध की व्यवस्था तूने की थी। माँ की जेर के साथ हमारी नाभि जोड़ना तेरी कला-कुशलता है वाह ! वाह ! मेरे रब ! मेरे प्रभु ! मेरे प्यारे !…. बस यह सीख जाओ, मौज हो जायेगी। #philosophy #indianculture #india
  •  0  0  17 seconds ago
  • 23 march 1931 nu saheed #bhagatsingh #rajguru #sukhdev Saheed hoye c,🙏 #inqlabzindabad #india #punjab #realheros 🙏💓 Today is Martyrdom Day of our neglected heroes and freedom fighters: Shaheed Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev.  शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा
  • 23 march 1931 nu saheed #bhagatsingh #rajguru #sukhdev Saheed hoye c,🙏 #inqlabzindabad #india #punjab #realheros 🙏💓 Today is Martyrdom Day of our neglected heroes and freedom fighters: Shaheed Bhagat Singh, Rajguru and Sukhdev. शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,
    वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा
  •  0  0  32 seconds ago
  • We visited the Beatles Ashram and it was complete magic. Such an incredible energy surrounding the place so we meditated in one of the meditation huts to take it all in ✨ we are starting 2 days of complete silence this morning, what a journey! #rishikesh #india
  • We visited the Beatles Ashram and it was complete magic. Such an incredible energy surrounding the place so we meditated in one of the meditation huts to take it all in ✨ we are starting 2 days of complete silence this morning, what a journey! #rishikesh #india
  •  0  0  1 minute ago
  • 73 meters, 5 storeys, and 379 steps up. But then they don't allow anyone up anymore.
  • 73 meters, 5 storeys, and 379 steps up. But then they don't allow anyone up anymore.
  •  5  1  1 minute ago
  • Will never take this time to come back to India for granted! 🙏🏽🙏🏽
Happy to spend time with my family here and learn more about the culture and where my roots are from, for sure a yearly trip from now on.
#india #punjab #punjabi #cheema
  • Will never take this time to come back to India for granted! 🙏🏽🙏🏽
    Happy to spend time with my family here and learn more about the culture and where my roots are from, for sure a yearly trip from now on.
    #india #punjab #punjabi #cheema
  •  4  0  2 minutes ago