#dehradun Instagram Photos & Videos

Latest #dehradun Posts

Top #dehradun Posts

  • Superdonuts 
Where- Rajpur Road next to Bikanerwala ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
Ambience - 5/5. One of the cutest place that has the most colourful ambience among the places that I have visited in Dehradun. Enough seating space for groups as well 2 seat table for couples. The interior is well decorated, therefore they have really done everything in their power to stand out. Considering it is a donut place, I have no complaints with how it looks. ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
Food - 3. 5/5.Food is where it does not really shines. The taste didn't stand out,  Cheesy fries were okayish.The hotdog was a bit sour because of the excessive sauce. I really liked the coffee though. But the thing is being a donut place it automatically gets compared to Dunkin Donuts. The question is if it is better than Dunkin Donuts? No, not really. Donuts are better at Dunkin. For the price you are not getting your money's worth. But I do think that you should give it a try because they have a huge menu and varieties of donuts to try. You never know what's gonna work for you. Plus they also have gift boxes of desserts and bakery products for you to buy. ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
Price-. Too pricey for the quantity. Donuts starts at ₹79 with tax. Approx ₹650 for two. 
You are free to repost it and tag us on your pictures 
#dehradunfoodbloggers #dehradun #donuts #cheesyfries  #hotdog #foodblog  #happyday #blog#foodblogger#foodporn #foodstagram#foodstagram #foodphotography #pic#followforfollowback #followformore
  • @cafes_of_dehradun Profile picture

    @cafes_of_dehradun

    Superdonuts Dehradun

    Superdonuts
    Where- Rajpur Road next to Bikanerwala ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    Ambience - 5/5. One of the cutest place that has the most colourful ambience among the places that I have visited in Dehradun. Enough seating space for groups as well 2 seat table for couples. The interior is well decorated, therefore they have really done everything in their power to stand out. Considering it is a donut place, I have no complaints with how it looks. ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    Food - 3. 5/5.Food is where it does not really shines. The taste didn't stand out, Cheesy fries were okayish.The hotdog was a bit sour because of the excessive sauce. I really liked the coffee though. But the thing is being a donut place it automatically gets compared to Dunkin Donuts. The question is if it is better than Dunkin Donuts? No, not really. Donuts are better at Dunkin. For the price you are not getting your money's worth. But I do think that you should give it a try because they have a huge menu and varieties of donuts to try. You never know what's gonna work for you. Plus they also have gift boxes of desserts and bakery products for you to buy. ➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖➖
    Price-. Too pricey for the quantity. Donuts starts at ₹79 with tax. Approx ₹650 for two.
    You are free to repost it and tag us on your pictures
    #dehradunfoodbloggers  #dehradun  #donuts  #cheesyfries #hotdog #foodblog   #happyday  #blog #foodblogger #foodporn  #foodstagram #foodstagram  #foodphotography  #pic #followforfollowback  #followformore

  •  253  5  6 hours ago
  • चाय पीना कहाँ अच्छा लगता है शायद आपका जबाब हो घर में या बालकनी में कुर्सी में बैठकर । लेकिन मेरी फीलिंग थोड़ी अलग टाइप की है। सुबह सुबह खेत में जाकर हिम्मत दा के साथ खेत में बैल जोतना और खेत का काम करना और कोई नहीं देख रहा हो तो एक या दो कश बीड़ी की हिम्मत दा के साथ, और उसमे भी हिम्मत दा को मनाना पड़ता था यार हिम्मत दा शाम को एक दो घूट दे दूंगा लेकिन घर में मत बताना नहीं तो सिषोड से शिकायी कर देगी ईजा मेरी और हिम्मत दा हँसते हुए एक दो बीड़ी के फूंक दे देने वाला हुआ फिर। 8 बजे ईजा कभी केतली में कभी वो बगल वालों से थरमस मांगकर कर चाय लेकर आ जाती थी खेत में । लेकिन जो मजा वो सने हुए मिट्टी के हाथ और गुड़ और मिश्री के चाय में था ना आह क्या बताऊँ आपको वो स्टील की गिलास में चाय भरकर पीना अलग स्वाद आता था। चाय पीते समय और दूसरे खेत में काम कर रही सबुली दि , खिमुली दि, परुली दि को आवाज देकर चाय के लिए बुलाना पहले वो मना करती थी लेकिन बाद में आना पड़ता था चाय की तलब और गपशप करने का टाइम भी कम मिलने वाला हुआ। फिर जो चाय पीने में महफ़िल जमती थी तो लगता था पता नहीं कब से नहीं मिले हैं ये लोग और बातें कुछ नहीं बस यहीं होती थी। अरे भागुलि की नई ब्वारी ने कल मेरे खेत से घास चोरी किया और मेरी भैस तो बस एक गिलास दूध दे रही है और वो भी चाय के लिए पूरा नहीं पड़ रहा है। फिर परुली दी कहती अरे तालुगुन वालो का जागर लगने वाला है और दो बकरे हैं बाँट भात खाने को मिल जाएगा। अब जेठ का महीना चल रहा है कुछ दिनों में रोपाई भी होगी। हम पहाड़ी लोग रोपाई लगने के बाद बैलों की भी अच्छी तरह से धयान रखते हैं मैंने तो एक बार तो मैंने जैसे ही रोपाई खत्म हुई शाम को दोनों बैलों को ब्रांडी पिला दी और दूसरे दिन म्यर ईजा ने सिषोड लगाकर भेल उछाल दिये। अब वो चेहरे में ना कल की चितां ना किसी का डर बस जिंदगी में खुशियों का प्यार उमड़ रहा है। रिश्तों की कद्र तो हमने गाँव सीखा था शहर में आकर ऑन्टी और अंकल बोलना सीख चाहे वो ऑन्टी अंकल कितने भी बूढे क्यों ना हो। मुझे गर्व है आपने गाँव की तहजीब से जिसने मुझे रिश्तों की अहमियत और जीने का सलीका सिखाया वरना इस शहर में तो सब पराये हैं। लेकिन कभी हाथ बढ़ाकर देखना इस शहर में भी पराये अपने हैं यहाँ गढ़वाली कुमाऊनी कोई नहीं जानता यहाँ सिर्फ पहाड़ी पहाड़ी को जानता है। खुलकर जीने वाले गांव में ही रह गए और बाहर जाकर बसने वाले उत्तराखंड का नाम रोशन करने में लग गए।

Credits ✒ : @thelostpahadi
Picture 📷: @deeepa.rawat

Tags:
#uttarakhand #uttarkashi #pahad #kumaon #pahadi #dehradun #nainital
  • @uttarakhand_people Profile picture

    @uttarakhand_people

    Dehradun, देहरादून, Uttarakhand, India

    चाय पीना कहाँ अच्छा लगता है शायद आपका जबाब हो घर में या बालकनी में कुर्सी में बैठकर । लेकिन मेरी फीलिंग थोड़ी अलग टाइप की है। सुबह सुबह खेत में जाकर हिम्मत दा के साथ खेत में बैल जोतना और खेत का काम करना और कोई नहीं देख रहा हो तो एक या दो कश बीड़ी की हिम्मत दा के साथ, और उसमे भी हिम्मत दा को मनाना पड़ता था यार हिम्मत दा शाम को एक दो घूट दे दूंगा लेकिन घर में मत बताना नहीं तो सिषोड से शिकायी कर देगी ईजा मेरी और हिम्मत दा हँसते हुए एक दो बीड़ी के फूंक दे देने वाला हुआ फिर। 8 बजे ईजा कभी केतली में कभी वो बगल वालों से थरमस मांगकर कर चाय लेकर आ जाती थी खेत में । लेकिन जो मजा वो सने हुए मिट्टी के हाथ और गुड़ और मिश्री के चाय में था ना आह क्या बताऊँ आपको वो स्टील की गिलास में चाय भरकर पीना अलग स्वाद आता था। चाय पीते समय और दूसरे खेत में काम कर रही सबुली दि , खिमुली दि, परुली दि को आवाज देकर चाय के लिए बुलाना पहले वो मना करती थी लेकिन बाद में आना पड़ता था चाय की तलब और गपशप करने का टाइम भी कम मिलने वाला हुआ। फिर जो चाय पीने में महफ़िल जमती थी तो लगता था पता नहीं कब से नहीं मिले हैं ये लोग और बातें कुछ नहीं बस यहीं होती थी। अरे भागुलि की नई ब्वारी ने कल मेरे खेत से घास चोरी किया और मेरी भैस तो बस एक गिलास दूध दे रही है और वो भी चाय के लिए पूरा नहीं पड़ रहा है। फिर परुली दी कहती अरे तालुगुन वालो का जागर लगने वाला है और दो बकरे हैं बाँट भात खाने को मिल जाएगा। अब जेठ का महीना चल रहा है कुछ दिनों में रोपाई भी होगी। हम पहाड़ी लोग रोपाई लगने के बाद बैलों की भी अच्छी तरह से धयान रखते हैं मैंने तो एक बार तो मैंने जैसे ही रोपाई खत्म हुई शाम को दोनों बैलों को ब्रांडी पिला दी और दूसरे दिन म्यर ईजा ने सिषोड लगाकर भेल उछाल दिये। अब वो चेहरे में ना कल की चितां ना किसी का डर बस जिंदगी में खुशियों का प्यार उमड़ रहा है। रिश्तों की कद्र तो हमने गाँव सीखा था शहर में आकर ऑन्टी और अंकल बोलना सीख चाहे वो ऑन्टी अंकल कितने भी बूढे क्यों ना हो। मुझे गर्व है आपने गाँव की तहजीब से जिसने मुझे रिश्तों की अहमियत और जीने का सलीका सिखाया वरना इस शहर में तो सब पराये हैं। लेकिन कभी हाथ बढ़ाकर देखना इस शहर में भी पराये अपने हैं यहाँ गढ़वाली कुमाऊनी कोई नहीं जानता यहाँ सिर्फ पहाड़ी पहाड़ी को जानता है। खुलकर जीने वाले गांव में ही रह गए और बाहर जाकर बसने वाले उत्तराखंड का नाम रोशन करने में लग गए।

    Credits ✒ : @thelostpahadi
    Picture 📷: @deeepa.rawat

    Tags:
    #uttarakhand #uttarkashi #pahad #kumaon #pahadi #dehradun #nainital

  •  850  14  18 August, 2019